Poetry by Priyalekha dedicated to our India🇮🇳🇮🇳

September 22, 2022
#IIW 2022 Diwali Best Selfies Contest
November 6, 2022

Poetry by Priyalekha dedicated to our India🇮🇳🇮🇳

15-08-2022

🇮🇳आजादी के 75वें अमृत महोत्सव के उपलक्ष में मेरी कविता🇮🇳

हे भारती तेरी जय होवे
करें आरती तेरी जय होवे।

हे नारी शक्ति, तू जाग जरा
तू ही अम्बर, है तू ही धरा।
कर्मठता का बन उदाहरण
कर साक्षरता का श्रृंगार वरण।।

कथनी करनी में अंतर हो
जहां छल के जंतर-मंतर हो।
वहाँ सत्या बन पहचान बना
अपने अस्तित्व की शान बना।।

परिवारवाद में न फंस तू
विश्वासघात में न धंस तू।
न माता कैकयी सी स्वार्थी बन
न कुंती सी मौन सुन चीरहरण।।

औरत बन औरत का संबल
बन बुद्धि, रख योद्धा का बल।
साहस का असीम परिचय दे
चाहे भाग्य हार या विजय दे।।

आंचल में दूध भी तू रख ले
आँखौं में पानी भी भर ले।
पर हाथों से तलवार न छोड़
पाँवों की सब जंजीरें तोड़।।

जहाँ दयादृष्टि का मूल्य न हो
जहाँ जीवन अमृततुल्य न हो।
यथा स्थान का कर तू परित्याग
अरी जाग, हे भरणी तू जाग।।

ले निर्णय ऐसा के गौरव हो
बन द्रौपदी भले सौ कौरव हो।
अपमान का घूंट सदा न पी
विरूद्ध कपट के जीवन जी।।

तू औंकार की बन वाणी
संकल्प लिए है जो ठानी।
श्रम के घृत की आहुति ले
तू आह न मुख पर आने दे।।

यदि नर से बनता नारायण
तू नारी से नारायणी बन।
दैवी शक्ति को जाग्रत कर
स्वयं के लिए भी तू व्रत कर।।

हे भारती तेरी जय होवे
करें आरती तेरी जय होवे।।

✍️ “प्रियलेखा” ✍️ ©️

🇮🇳जय हिंद 🇮🇳

iiw_admin
INSPIRING INDIAN WOMEN CHARITABLE FOUNDATION Company Number - 366414 ( India ) IIW ( Inspiring Indian Women ) Company Number - 10879951 ( UK )

Leave a Reply